Acid Attack on and on …

Madhuri Mishra
ACID on THOUGHT

📢📢📢 #highAlert 29 साल की मां अपनी एक साल की बेटी से – ” तू मेरी जितनी गोरी क्यों नहीं हुई ? तेरी नाक भी चिपटी रह गई , लड़कों वाली face cutting है , लड़की जैसी छवि नहीं , उसपर अगर दादी घर वालों पे गई , तो डर है – अगर छोटी रह गई ।। ” ( सत्य घटना ) कहीं ये वही सोच तो नहीं जो लक्ष्मी अग्रवाल जैसी लड़कियों पे acid attack को sanction कर देती है ? क्योंकि बात वही है ना – कुल मिलाकर लड़की का सुंदर दिखना ज़रूरी है , वरना …. वरना का जवाब समाज है ना देने के लिए .. * खूबसूरती क्या है ? बता दीजिए , दिखा दीजिए , महसूस करा दीजिए । स्वीकार है । * पर आपकी इस अमुक ( certain ) परिभाषा का कहीं फिट ना होना खूबसूरती नहीं है , फिट ना होना बदसूरती है , फिट ना होना एक कमी है , ये कह – कह कर वो भी बचपन से ( जब होश भी नहीं सम्हाला ) ख़ासतौर पर लड़कियों को , उसपर भी शादी के लिए मूल्यांकन ( evaluation ) का पैमाना बना कर , ज्यादातर लड़कियों को मानसिक रोगी बना दिया ( उदाहरण – २९ साल की युवती 👆) तभी शायद लक्ष्मी का चेहरा जलाने उस लड़के का साथ देने लड़की अाई थी , छीनने आए थे वो लक्ष्मी की ज़मीं , लक्ष्मी का आकाश , वजह — सुंदर ना रही तो कहीं की ना रहेगी ।। 📺 Video ज़रूर देखें 👇 । https://youtu.be/7Fq0YvfluN4 #LoveThe_exceptionals * चुप रह जाना अपराध होगा , जब भी माओं को , पड़ोसियों को , दुनिया को , ये कहते या जताते देखें – सुनें कि लड़की कितनी गोरी या काली है , छोटी या लंबी है जैसे इसके आगे लड़की में कुछ बचता ही नहीं ? * चुप रह जाना अपराध होगा , क्योंकि ये ग़लत मानसिकता बच्चियों की सोच पर एसिड अटैक सबसे पहले करती है । * रुक जाइए , रोकिए , जितना हो सके , मत रहिए सुशील , रिश्तेदार हों , दोस्त , पड़ोसी , कोई सगा , विरोध कीजिए – अभी , इसी वक़्त । ** ‘ ग़लत ‘ समस्या नहीं , समस्या ‘ ग़लत बर्दाश्त ‘ करना है । #छपाक #chhapak #acidAttack_on_thought

— Madhuri Mishra

Leave a Reply to 1хбет зеркало рабочее Cancel Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *